Wednesday, 19 March 2014

Hello friends. This blog is Ek Shayar ka safer. Manzil is life,Target, Vision, Aim. Without motivation, inspiration we cant get target. So i will try my best to write more Inspirational , Motivational words. Through which reader come out from depression and they have to eager to spend a enjoy full life. So please join it and put your comments. Ye aap sab ki manzil ka hai safar, Ye badhte kadmo ki hai ek dagar, Ab zindagi ko banalo hamsafar, Jaan lo ye Ek Shayar ka hai safar...........

साथ हमारा पल भर ही सही !
पर ये पल जैसा मुक़मल कोई कल नहीं !!
हो शायद फिर मिलना हमारा कहीं !
तू जो नहीं तो तेरी यादे संग सही !!
Meri Jaan Bohat Haseen Hai,
Meri Jaan Bohat Kamseen Hai,
Chahe Jhut Bolna Unki Fitrat Me Ho,
Magar Vo Sachche Hai Hame Ye Yakeen Hai.
kehan nu hi mainu bhuli ye,
dekhan nu hora te duli ye,
ki hoya akh milondi naa,
tera dil te manu chahunda hai,
oye main janda hai tenu kehde
vele cheta mera aaunda hai...
Tumhare Gum Bhi Hum Apne Sine Mein Chhupa Lenge
Tumhare Aansu Bhi Hum Apni Aankho Se Baha Lenge
Bas Ek Baar Tum Humpe Aitbaar Karke Dekh Lo Sanam
Khuda Ki Kasam Tumhe Apne Sine Mein Basa Lenge.

Jo Insaan Bahut Ladne Ke Bad Bhi
Aapko Manane Ka Hunar Rakhta
He..
Samajh Lena Ki Bus Wahi
Apse Bepanah Pyar Karta He.
Zindagi to ek aisa safar hain,
Sukh Dukh ka wo bhawar hain,
har ek mod pe mile kuch shikh,

Has ke pa le Manzil  whi zindagi hain!

Bite lamho ke saye me rahne do,
Do pal hi shi  bahon me le lo
Ab khud se juda na hone do,
Bachi zindagi tere sang jee lene do  !


Suraj ki kirno se milati hain ummang,
Chand Ki chandni se hoti hain Chahat,
Bahti Pawan se hoti hain Udaan,
Laga ke Pankh ham udte hain manzil pe !

Har Pal har Lamha Teri Yaad Me Gujarta Hain,
Bin Tere  Jeene Ko Ab na mera Dil Karta Hain,
Mere Hamdam Meri Becheni to tu Shabd pahna de,
Bichhi hai palke raho me Meri Manzil ka rahi banja re!
Written by: Ravinder Kumar
Yaaden akasar sirf yaaden rah jati hain,
Apne beech safar me saath chhod jate hain,
 Kisi ko kya dos de ham hee bahak jate hain,
Tanha hokar bhi ham bas unme kho jate hain,

Na jaane kis waqt kis more pe khade ho jate hain,
Gairo ko apna aur apno ko gair samjhtae hain !

Bechen aankho pe bas haseen sapne sajate hain,
Bas ab to ham yaadon ke sahare hi jeete hain !
Kyun Tut jata hain aaina surat teri dekhkar,
sarma jati hain chandni nazare teri dekhkar,
Tu ek pal ke liye muskura ke to dekh idhar,
Tere chahane walon ki bheed hain is kadar !

Ek halki si hawan ne mujhe is kadar chhuaa,
Na jane kayon laga jaise ki mujhe kuch huaa,
Palko pe bane sapno ka saya kaise door huaa,
Socha tha jise apna wo iss kadar door huaa !
Wo hame na kabhi samjh sake,
Mere hi lanzon ko apna sa kahe !

Saath dene me wo aise katra rahe,
mangi thi khusiya gam diye ja rahe !

Ab to ham tera sath chhod hain rahe,
Bas ek hi hain dyua tu jaha bhi rahe !

Haseen yaadon ko na sanjo ke tu rahe,
Meri yaandon ka saya teri palko pe na rahe!
Waqt A halat shabdo ki hain khamoshi,
haotho pe labzo ki kaisi hain behoshi,
Dile a haal muhabbat ki mahfil ho aisi,
Chand labzon ki gunj se tute mahfil ki khamoshi !



Zindagi Ek khushnuma haseen pal hain,
Palko be bune khawabo ka kal hain
Jhuki nazaro ka barkhuba aanchal hain
bas mere yaar jaan le yahi Zindagi hain !
Badhte Kadam bhi sahme se huye hain,
Palko pe sapne kaise ruthhe huye hain,
Zindagi ke safar me kaante bechhe hain,
Bheed me ham is kadar ualjhe huye hain!
Badi muddat ke baad mujhe siddat mili,
Aaj waqt ne saath chalne ki ibadat ki,
Waqt ke mohtaj kaisi ye uljhan jo huai,
Maot ne dastak dene se pahle ijajat jo li !
Aankho me aanshu ki kaonsi ye jhil hain,
Zindagi ki tanhai ki koansi ye manzil hain !

Mera ye safar meri nazaro se aojhal hain,
Chalkati dhoop hi meri raah ka aachal hain !

Andheri raat me sitaron sebhara gagan hain,
Khilate aur mahkate phoolon ka chaman hain !

Zindagi ka daman khushiyon se anjaan hain,
Zindagi ke safar me musafir hi ek pahchan hain !

Aaj ek nai  moar pe meri Zindagi ki dansta hain,
Ab to bas  A- Zindagi mera tujhse hi wasnta hain !
Kabhi lagta hain thaki si hain ye Zindagi,
Waqt bewaqt rukh badalti hainye Zindagi,

Ek pal khawabao ko sajati hain ye Zindagi,
Duje pal chakna coor kar deti hain ye Zindagi,

Har pal kuch naya shikhati hain ye Zindagi,
Dil yahi kahta hain Aakhir kya hain ye Zindagi,
Har Harmusafir ki raah me manzil hoti hain Zindagi,
Har kadam sambhalkar chale ko kahti hain ye Zindagi

Ek anjani si aahat dastak deti hain kya Zindagi 
Kya isi ka naam hain Ye Zindagi !
  


Yaun Kab kak tum khushi ko
 kaha kaha talasho ge,
Kabhi is dile a nadan se
kab tak puchhoge,
Raat ke gulak me khawaboo
ke sikke honge,
Chand dolat se kya palko pe
Khawab bun loge,
Kayanat A khushi se kya kahoge,
gam me khushi dhoondoge !
Kisi ke dayare me rahkar ham
khush nahi hote,
Shabdo se Ghazal likhkar ham
gayak nahi hote,
Is kalam ko dil se lagate ham
Dil se wahi likhte,
Aaj yaha tak hain pahunche ham
jawab A Ghazal hain Likhte !
Kiya hai jise pyar hamne
Zindagi ki tara,
Woh aashiyana bhi mila hame
Ajnabi ki tarha,
Bas ek talash hain ab hame,
tamnna ki tarha,
Jo saath de mera har moar pe
bas jamane ki tarh,
Palko pe wo khawab sagenge
Aaine me tasveer ki tarha,
Ek ghazal ham aisi likh de
Gunje Tarane ki tarha !
Kuch meethi kuch khatti teri yaaden hain,
Tere saath bitaye palo ki wo sogaten hain,
Bura na mano ham palko pe unko sajaten hain,
Jab aankh khule to teri tasveer samne paaten hain,
Band aankho me bas tera hi khawab sajaten hain,
Teri har aahat ko ham is kadar dil se lagaten hain,
Bas yahi kahna hain ki aap bahut yaad aaten hain !
Har us Gam me khushi chupi hain jatane ke liye,
Jaam to ek bahana hain Gam ko bhulan ke liye !

Bahakate kadam andheri raat me dagmagane ke liye,
Jab hoash aye to musafir is Manzi pe aage badhne ke liye !

Jab na de koi saath to jaam hi kayon hain peene ke liye,
yaa Kaho ki us jhalakte jaam ki jhalak dikhlane ke liye !

Ye to dastoor hain Ek shayar ki Ghazal ko banane ke liye,
Yaa kaho ki Jaam Ek Aasik ki mahfil ko sajane ke liye !



Teri Yaad ke liye mere paas bahut thikane hain,
Na jaane mulakat ke kitane bahane Hain !

Ho kasti samundar me to kinare to tarste hain,
Beech sagar me ham us paani to talashte hain !

Hoash nahi fir bhi ham ghazal Likhate jate hain,
Ye shabd hi meri Manzil ko kinare pahuchate hain !
Kuch Ankahe Se Lamhe Ja Jane
Kya Kah Jate Hain,
Jaise Nadiya Ka Bahta Pani Sagar 
Me Mil Jata Hain,
Phool Ki Patti Bikharkar Bhi Khusboo 
Chood Jati Hain,
Bas Aise Hi Raah Me chalte Musafir Yaade 
Chood Jate Hain
Kisi apne ki na ab hame koi 
ummid hain,
Ye Safar ab hame akele paar 
karna hain,
Khali hath aaye aur khali haath 
hi jana hain,
Ham Akele aaye the aur akele 
hi jana hain !
Aankhe jo sapna sanjoti hain,
Dil me kuch arma bhi hote hain!


Sapne bhi hame kuch kahate hain,
Juba na ho par palke jhapakti hain,

Nind khulane pe sapne bikhrate hain,
Bas mere bhi kuch aise hi sapne hain!


Tahani ke patte ki tarah bikharate hain,
Patjhad ki trah wo bhi door ja girate hain!

Tujhe ek pal dekhe to,
ye palke ho jati hain nam,
Har sans me tum base ho,
Dil ki dhadkan ho tum,
Mere khawab me base ho,
Kya kahe tere ho gaye ham !


*****************
मेरी मोहब्बत मेरे दिल की गफलत थी
मैं बेसबब ही उम्र भर तुझे कोसता रहा…..
आखिर ये बेवफाई और वफ़ा क्या है
तेरे जाने के बाद देर तक सोचता रहा……
मैं इसे किस्मत कहूँ या बदकिस्मती अपनी
तुझे पाने के बाद भी तुझे खोजता रहा….
सुना था वो मेरे दर्द मे ही छुपा है कहीं
उसे ढूँढने को मैं अपने ज़ख्म नोचता रहा

*******************
यादों की किम्मत वो क्या जाने,
जो ख़ुद यादों के मिटा दिए करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं

*******************

प्यार वो हम को बेपनाह कर गये,फिर ज़िनदगीं में हम को,
तन्नहा कर गये, चाहत थी उनके इश्क में,फ़नाह होने की,
पर वो लौट कर आने को,भी मना कर गये..

*******************

कुछ तो मजबूरियां रही होंगी यूं कोई बेवफा नही होता, टटोल कर देखो अपने दिल को हर फौसला बेवजह नहीं होता….

*******************

तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने ,
तेरे प्यार का हर क़र्ज़ अदा किया हमने ,
मत सोच के हम भूल गए है तुझे ,
आज भी खुदा से पहले याद किया है तुझे

*******************

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा
पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छू कर नहीं देखा`

*******************
धोखा दिया था जब तूने मुझे. जिंदगी से मैं नाराज था,
सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं. मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था….
*******************
पास आकर सभी दूर चले जाते हैं, हम अकेले थे अकेले ही रह जाते हैं, दिल का दर्द किससे दिखाए, मरहम लगाने वाले ही ज़ख़्म दे जाते हैं.
*******************
सारी उम्र आंखो मे एक सपना याद रहा,
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा,
ना जाने क्या बात थी उनमे और हममे,
सारी मेहफिल भुल गये बस वह चेहरा याद रहा ..

*******************

जनाजा मेरा उठ रहा था,
फिर भी तकलीफ थी उसे आने में!
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी,
और कितनी देर है दफनाने में?

*******************
मिलना इतिफाक था बिछरना नसीब था ..
वो तुना हे दूर चला गया जितना वो करीब था ..
हम उसको देखने क लिए तरसते रहे
जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था

*******************

खामोश हूँ मगर चेहरोँ की शिकन से वाकिफ हूँ ।
क्या हो रहा है जमाने के चलन से वाकिफ हूँ ।।
ये खूबसूरत फूल भी नर्म मगरबेवफा होते हैँ ।
कोई माने या ना माने मैँ इस चमन से वाकिफ हूँ ।।
मैँने भी सुना है के वफा बडी हशीँ चीज होती है ।
कोई मुझसे भी पूँछे मैँ इसकी चुभन से वाकिफ हूँ।।
मैँ तन्हाँ भी हूँ और सुकूँन-ओ-चैन से महरूम भी।
दिल पर लगी है मैँ इस जलन सेवाकिफ हूँ ।।
उससे टूट कर वफा करता हूँ आज भी मैं ।
वो भी कहे किसी रोज के तेरे पागलपन से वाकिफ हूँ ।।



जब भी खुदा को याद किया नज़र तु ही आया;
ये मेरे दीवाने पन के लिए तेरे दीदार की हद थी;
हम तो मर गये मगर खुली रही आँखे हमारी;
बेवफा तु नहीं आया ये तेरे इंतज़ार की हद थी।


*****************
मेरी मोहब्बत मेरे दिल की गफलत थी
मैं बेसबब ही उम्र भर तुझे कोसता रहा…..
आखिर ये बेवफाई और वफ़ा क्या है
तेरे जाने के बाद देर तक सोचता रहा……
मैं इसे किस्मत कहूँ या बदकिस्मती अपनी
तुझे पाने के बाद भी तुझे खोजता रहा….
सुना था वो मेरे दर्द मे ही छुपा है कहीं
उसे ढूँढने को मैं अपने ज़ख्म नोचता रहा

*******************
यादों की किम्मत वो क्या जाने,
जो ख़ुद यादों के मिटा दिए करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं

*******************

प्यार वो हम को बेपनाह कर गये,फिर ज़िनदगीं में हम को,
तन्नहा कर गये, चाहत थी उनके इश्क में,फ़नाह होने की,
पर वो लौट कर आने को,भी मना कर गये..

*******************

कुछ तो मजबूरियां रही होंगी यूं कोई बेवफा नही होता, टटोल कर देखो अपने दिल को हर फौसला बेवजह नहीं होता….
*******************

तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने ,
तेरे प्यार का हर क़र्ज़ अदा किया हमने ,
मत सोच के हम भूल गए है तुझे ,
आज भी खुदा से पहले याद किया है तुझे

*******************
आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा
पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छू कर नहीं देखा


Follow us on facebook


*******************
धोखा दिया था जब तूने मुझे. जिंदगी से मैं नाराज था,
सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं. मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था….
*******************

Follow us on facebook

पास आकर सभी दूर चले जाते हैं, हम अकेले थे अकेले ही रह जाते हैं, दिल का दर्द किससे दिखाए, मरहम लगाने वाले ही ज़ख़्म दे जाते हैं.
*******************
Follow us on facebook

सारी उम्र आंखो मे एक सपना याद रहा,
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा,
ना जाने क्या बात थी उनमे और हममे,
सारी मेहफिल भुल गये बस वह चेहरा याद रहा ..

*******************
Follow us on facebook


जनाजा मेरा उठ रहा था,
फिर भी तकलीफ थी उसे आने में!
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी,
और कितनी देर है दफनाने में?
*******************
मिलना इतिफाक था बिछरना नसीब था ..
वो तुना हे दूर चला गया जितना वो करीब था ..
हम उसको देखने क लिए तरसते रहे
जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था

*******************
खामोश हूँ मगर चेहरोँ की शिकन से वाकिफ हूँ ।
क्या हो रहा है जमाने के चलन से वाकिफ हूँ ।।
ये खूबसूरत फूल भी नर्म मगरबेवफा होते हैँ ।
कोई माने या ना माने मैँ इस चमन से वाकिफ हूँ ।।
मैँने भी सुना है के वफा बडी हशीँ चीज होती है ।
कोई मुझसे भी पूँछे मैँ इसकी चुभन से वाकिफ हूँ।।
मैँ तन्हाँ भी हूँ और सुकूँन-ओ-चैन से महरूम भी।
दिल पर लगी है मैँ इस जलन सेवाकिफ हूँ ।।
उससे टूट कर वफा करता हूँ आज भी मैं ।
वो भी कहे किसी रोज के तेरे पागलपन से वाकिफ हूँ ।।


जब भी खुदा को याद किया नज़र तु ही आया;
ये मेरे दीवाने पन के लिए तेरे दीदार की हद थी;
हम तो मर गये मगर खुली रही आँखे हमारी;
बेवफा तु नहीं आया ये तेरे इंतज़ार की हद थी।

कभी कभी जीवन में ऐसे पल भी आते है.
कुछ हसीन ख्वाब आँखों में आकर एक नया दर्द दे जाते है.
मन के कोरे कागज पर वो अरमानों की तस्वीर सजाते है.
मन खुशियों से भरकर आँखों में आंसू दे जाते है.
कभी कभी जीवन में......................


Follow us on facebook

दिल के सूने आँगन में आशाओं के फूल खिलाते है.
बंद पड़े साजों को वो गीत नया दे जाते है.
कभी कभी जीवन में......................


Follow us on facebook

दिल की अँधेरी दुनिया में एक चिराग नया जलाते है.
प्यार की बारिश करके वो इन्द्रधनुष सा रंग दे जाते है.
कभी कभी जीवन में......................
तक़दीर से क्यों है खफा ,
करले तू खुदा से बफा। ………
तेरे कर्म ही है तेरी रजा ,
बन के कर्मों का मोताज ,
क्यों बो रहा है सजा...............।


धीरे-धीरे सब छोड़ कर चले जाते हैं

दिसम्बर तो सिर्फ एक महीना है....



सुनो....
ज़रा रास्ता तो बताना....
मोहब्बत के सफ़र से... वापसी है मेरी.....

Follow us on facebook